रफ़्ता-रफ़्ता

Posted on

बस तू मेरे साथ,

मेरा एक बस्ता और वो रस्ता।

दूर गांव की टिमटिमाती लालटेन,

सज्दा-ए-इश्क़ हुआ, रफ़्ता-रफ़्ता।

This is for the time when you take a break to kill the monotony and be yourself..When you realise that you meet real you when you disconnect. When you realise that this may be what they call love. Being happy is love. Being yourself is love.. Bow to love..

ख़ाक

Posted on

ग़ुनाह हुआ, गुस्ताख़ हूँ.

पर कद्र है तेरी, ना तेरे ख़िलाफ़ हूँ.

माना दिल दुखाया है तेरा, पर तू रुस्वा न हो.

शोला हुआ करता था यारी में तेरी, तेरी रुस्वाई से ख़ाक हूँ.

When you make someone, close to you, shed out tears, only to realise your mistake later.
Saying sorry and meaning it can heal the wound. But scars take their own sweet time.

गुस्ताखियाँ मेरी

Posted on

गुस्ताख़ होने से मेरे, रुस्वा तो हुआ ज़माना.

पर तन्हाइयों में सिसकियों का सबब, सूझता भी ना था.

कब तक शिरक़त करते लहू-लुहान दिल के जनाज़े में?

जनाज़े तक में, तकब्बुर से कोई चूकता भी ना था.

When you rebel against the world. for the world doesn’t deserve softer and nicer you. It didn’t lend a hand when you were in need. It just didn’t care. Now you shouldn’t too.

वफ़ा का ज़हर

Posted on

शिद्दत से छाया था ख़ुमार इक हसीं का,

बादस्तूर चला था सुरूर नाज़नीं का.

इक रोज़ ज़हर दिया, उसने इश्क़ के नाम से,

आज भी चखता हूँ, स्वाद उस करीम का.

When someone suggests to fall in love and enjoy it. saying, “asal zindagi mein bhi kr k dekho….alag maza hai iska” (try to fall for it in reality, it has its own charm).

I replied, “Been there, done that, not again”