मोहब्बत ना कर

Posted on

इतनी मोहब्बत ना कर ऐ ज़माने,

कितनी लम्बी है ये रात, कौन जाने?

मायूसियां छा जाएँगी तेरी तन्हाईयों में,

इसका इल्म है तुझे, तू माने.. ना माने.

नूर-ए-एहसास

Posted on

खुद की हक़ीक़त को अनसुना सा कर दूँ, पर,

तेरी रूह की आरज़ू की मुझको खबर है.

तेरी छुअन को कैसे कुरेदूँ ना,

तेरा नूर-ए-एहसास ही इस कदर है.

इश्क़ में माफ़ी नहीं होती.

Posted on

बंदगी में रब्ब की वादा-खिलाफी नहीं होती,

मसरूफियत यार के नाम की कभी काफी नहीं होती.

दरिया-ए-इश्क़ की गहरायी को माप पाया है कौन,

इसमें बेपरवाह जुनूनीयत तो है, पर… माफ़ी नहीं होती.