अरसा हुआ…

Posted on

अरसा हुआ तुझे नज़रें चुराये,

बहरहाल, चाय के प्याले में तेरा ही अक्स है.

पर

मयस्सर नहीं अब हमसे आंखें चार करना,

ना तेरे इंतज़ार में आज ये शख्स है.

Its been a while since then. You do invade my dreams, but not my soul. Anymore.

मोहब्बत ना कर

Posted on

इतनी मोहब्बत ना कर ऐ ज़माने,

कितनी लम्बी है ये रात, कौन जाने?

मायूसियां छा जाएँगी तेरी तन्हाईयों में,

इसका इल्म है तुझे, तू माने.. ना माने.