ख़ाक

Posted on

ग़ुनाह हुआ, गुस्ताख़ हूँ.

पर कद्र है तेरी, ना तेरे ख़िलाफ़ हूँ.

माना दिल दुखाया है तेरा, पर तू रुस्वा न हो.

शोला हुआ करता था यारी में तेरी, तेरी रुस्वाई से ख़ाक हूँ.

When you make someone, close to you, shed out tears, only to realise your mistake later.
Saying sorry and meaning it can heal the wound. But scars take their own sweet time.