रंजिशें

Posted on

हुई रंजिश, जला आशियाँ,
राहों से मेरी, जुदा तेरा मकां।
क़त्ल हुआ महफ़िल-ए-यार में,
दिल में दफ़न था, हाल-ए-बयां।

इस्तक़बाल था लबों पे तेरे, पर खुश्की थी.
सवालिया थी नज़र मेरी, नज़रों की कुश्ती थी.
लतीफ़ों के काफिले में मसरूफ तो थे दोनों,
पर ज़हन के एक कोने में, अनकही, अनसुनी..एक सिसकी थी.

रह रह कर रह गया, वो छूटा नहीं,
सपना हसीन वो, टूट कर भी टूटा नहीं.
होगा वो भी आलम, जब रंजिशें मिटा देगा तू,
इस काफिर के नशों से, तू भी तो अछूता नहीं.

This is when you know that the person is lost. The connection, the bonding, the TRUST is lost. Both of you have mutually lost each other. But, yet, its not over. Some call it a “baggage”, some call it “hope”. For me, its best left unsaid.

Grievances will find their way. And, so would affection and adorability.

ख़ाक

Posted on

ग़ुनाह हुआ, गुस्ताख़ हूँ.

पर कद्र है तेरी, ना तेरे ख़िलाफ़ हूँ.

माना दिल दुखाया है तेरा, पर तू रुस्वा न हो.

शोला हुआ करता था यारी में तेरी, तेरी रुस्वाई से ख़ाक हूँ.

When you make someone, close to you, shed out tears, only to realise your mistake later.
Saying sorry and meaning it can heal the wound. But scars take their own sweet time.