गुस्ताखियाँ मेरी

Posted on

गुस्ताख़ होने से मेरे, रुस्वा तो हुआ ज़माना.

पर तन्हाइयों में सिसकियों का सबब, सूझता भी ना था.

कब तक शिरक़त करते लहू-लुहान दिल के जनाज़े में?

जनाज़े तक में, तकब्बुर से कोई चूकता भी ना था.

When you rebel against the world. for the world doesn’t deserve softer and nicer you. It didn’t lend a hand when you were in need. It just didn’t care. Now you shouldn’t too.

कुछ देर ठहर

Posted on

रुस्वा तो तूने करना ही है, कुछ देर तो ठहर।

बा-दस्तूर वस्ल-ए-यार मुमक़िन नहीं, कुछ देर तो ठहर।

जुदाई का आलम अगले मोड़ से है झाँक रहा,

झपक भर का ये साथ छीन नहीं, कुछ देर तो ठहर।

“When you know that you two have different goals, responsibilities and approach to life: leading to a separation. but you still want to live one more moment with each other.”